Sunday, October 12, 2014

An Open Letter to Indian Railways

Dear Sir,

I should have ideally written this mail three weeks back when the incident, which forced me to write this, took place. Multitudes of reasons held me from accomplishing this simple task in the in between period – however, as the saying goes, it is better late than never. Before I start narrating the incident it is my duty to inform you that this mail is drafted with the assumption that Indian Railways is a Service Provider and its performance should be measured against the set benchmarks for the service industry.



As already pointed out that the incident took place some 3 weeks back while I was traveling from Howrah to Ranchi (Train: Howrah Hatia Express; Date: 22nd September 2014; PNR: 6232595064) along with my parents. It started as a normal journey (the train started a few minutes late… nothing unusual by Indian standards) and would have remained so had we not faced the unexpected. As we pulled out our bags from under the lower berth we found, to our horror, that my bag had been ripped apart. The work looked like that of an army of rats (if it was carried out by a single rat then it must be the ‘Hercules’ of rat clan). 4 of my shirts (among them 3 were new), 2 T-shirts, a pair of socks and a seemingly evil novel which went by the name ‘Asura’ (and of course the ill defended bag which carried them) were either ‘dead’ or ‘severely injured’ in this barbaric attack. A sense of loss gripped us as we took a transport to our destination. It is said that in grief and in anger one loses the sense of better judgment – We also made a mistake by forgetting to lodge a formal complaint at the station office. However, this should not be of any concern in relation to this communication – I am not writing this to demand any compensation. I am writing this because a particularly horrifying thought is bothering me since then.




It is a fact that I incurred losses in the episode described above – it left me with no dress to wear in that trip and would affect my finances whenever I plan to refurbish my wardrobe and travel kit (in fact, it has been partially done). The impact of such a loss would differ on the basis of financial wellbeing of a person (for some it would wreak havoc and for some it would not mean a thing. I am somewhere in between). I would, eventually, recover from this loss but for many it would not be that easy. This is the first cause of concern. Let me bring another angle (which is troubling me since) to it – What if I was traveling for a job interview carrying all my certificates in that bag? What if that (‘Hercules’ of a) rat had decided to devour those certificates instead of the clothes and novel? What if my lifetime of hard work was shredded into the pieces just because the Indian Railways failed to perform its duties well? What if I was in dire need of that job? Imagine the plight and helplessness of an unemployed youth, out for a job interview, whose degrees/ certificates and the interview dress are shredded into pieces while traveling through one of your trains. 



My degree/ certificates are far more important to me than the clothes I wear. People do carry important/ precious things when they travel. Sometimes they even carry stuffs which have taken them years to procure. When I purchase a travel ticket from Indian Railways (and for that matter any transporter), it is with the inherent assumption that the carrier would ensure a ‘safe and hassle free’ journey with promised comfort. The term ‘safe and hassle free’ is generic and also encompasses expectations such as safety of the belongings of the passenger. Do you think Indian Railways provided me a ‘safe and hassle free journey’ in that ride?




Indian Railways is a Service Provider – I pay for a particular service and expect it to be delivered as per expectations. However the previous record is such that we have been forced to set a low benchmark to measure our expectations: Delayed trains are norm and not exceptions (many miss exams; interviews and other important appointments every day); Passenger safety is not given desired importance (and I am not talking of the mishaps/ accidents; I am not even referring to the incidents where mighty rats shred people’s belongings; I am referring to the loot and dacoity activities on running trains – I stopped traveling in Sleeper Class some 4 years back when my coach was looted; the only time I was forced to travel in Sleeper again, the coach was subjected to loot); The food from pantry is overpriced, substandard and unhygienic (even in premium trains); The station premises/ platforms are not clean enough. I travel in AC and pay as per the rates and yet, many a times, find that the AC is not working; the linens and blankets are dirty and the washrooms unusable. If I continue with this rant, this mail will start to take the form of a book and hence I would put a stop to it.




The fact is that Indian Railways have been failing us as a Service Provider for long (irrespective of the regimes). I agree that you have a mammoth operation to look after and there may be instances where despite the best efforts adequate service standards could not be maintained – but these need to be exceptions and not expectations. It is high time that Railways pull up its act and start acting like a true Service Provider.

I think the problem lies in the attitude towards Service. I think it is because the Rail authorities are not willing enough to understand the viewpoint of a passenger. This attitude may stem from the fact that the Railways has almost monopolistic control over long distance travel (a majority in our country cannot afford air travel and bus services are too cumbersome). It doesn’t matter whether a customer (in this case a passenger) is satisfied with the services or not, (s)he would return as (s)he does not have anywhere else to go. The monopolistic reign would continue in foreseeable future – had the Rail operations opened to other players like the Airlines, Indian Railways would have been staring at a fate similar to the national carrier (Air India/ Indian Airlines).

The other reason could be the resource/ fund crunch that you have been experiencing while running the operations. But now you have increased the fares reasonably; you have also introduced the concept of Premium trains and variable pricing in Tatkal tickets – If you falter now, you would be left with very flimsy reasons to defend the level of your services. And though it is always an unwise option to fund one operation from another asset (and it is none of my business to advise you on how to manage your assets/ resources), Railways would find itself on a financially sound pitch if it starts monetizing its assets (large tracts of land) by clever mix of commercial and public projects.

P.S: As a child I was always fascinated with trains. In fact I was one of your biggest fans. As I grew up, I started noticing the gap in the services provided by the Railways. The last few experiences have not been great. I wish India would see a paradigm shift in the way Railways offers its services in coming days. Start by getting rid of the Rat menace on trains so that I can have my vengeance… J.

While I write this to you, I am making this mail public through online mediums including my blog (do not worry, very few people visit the blog). I hope you would not mind this discretion. I am also attaching a few pictures of the ‘devastation’ caused by the ‘Rat Hercules’ for your reference.

Best Regards,
Rahul Shanu

This has been mailed to the Railway Board and the GMs of East and East Central Railways (as per the email IDs available on http://www.indianrailways.gov.in).


Friday, June 06, 2014

Patna, Can we have this campaign?

I think my native city, Patna, needs a surgery. You may question my wisdom and have every right to do so – after all Patna of today is much different from Patna of a decade back. There are several projects which, once completed, have the potential to change the face of Patna. And yet I cry for an operative procedure to rescue the city I love (actually it needs many significant treatment sessions but I would raise one important issue in this post).

Consider these news items:

  1. According to a WHO study, Patna is the 2nd most polluted city in the world next only to Delhi
  2. This summer, for a considerable period, Patna (in fact the entire Bihar) recorded some of the highest temperatures in the country

The quality of air in Patna has deteriorated at an alarming rate. Patna, as far I remember, was always a city with dusty roadsides but the rapid spree in construction (massive projects like Roads, Flyovers, bridges, Museum, Convention Center, Malls etc.) has taken its toll on the quality of air. Add to this the ever increasing load of vehicles and you have a recipe for perfect disaster. A recent article in Times of India suggested that the air pollution in Patna has increased the risks for respiratory and cardiovascular ailments. If the stakeholders fail to intervene at this juncture Patna may, in not too distant future, become entirely inhabitable.

Heat wave is not new to Patna – the deadly ‘Loo’ has always inconvenienced its citizens but over the years (from what I have heard from my relatives) the summer has become more and more cruel. It is probably also due to the fact that Patna, in its zeal to catch up with its more developed counterparts, has ‘concretified’ barely dropping a sweat on the loss of its green cover in the process.

I am not aware of all the measures that would curb the air pollution (especially the particulate pollution) but am certain that presence of more trees would help. Trees would also help in bringing some respite from the sweltering heat (this is a no brainer). I once had a mail communication with one of the leading lights on plantation over the possibility of planting trees in Patna – he appreciated the intention but simultaneously pointed out that the current Patna does not have the space for trees. I differed with him – wrote an article which remained confined to my blog and Patnadaily (which has been generously publishing my thoughts for long). What I had presented in that article was a concept which unfortunately did not come to the notice of relevant stakeholders – I would try this one more time. This article would build on the concept of my previous article and try to formalize a draft blueprint out of it.

Step 1: Feasibility

As I have already stated an expert suggested that the feasibility of giving a green cover to the current city of Patna is not high. I differ but cannot suggest a way out. We can only be helped out by experts – City Planners. City Planners can map the entire city ward by ward, locality by locality and suggest the ways to carry out the plantation.

Problem Statement: Why would City Planners do that?

We would have to incentivize their efforts - Any agency/ firm or group of individuals carrying out the work would have to be paid. This would require significant money which would have to come from institution(s) and not individuals. The environment and forest department can take up the cause or companies associated with Bihar and inclined towards CSR can chip in. These companies are to be identified and then approached for partnering in this mission - Some of the names which come to the mind are Bihar Rajya Pul Nirman Nigam Ltd. and Amrapali Group (I do not know whether they are into CSR). I would try to share this article with the chairman of BRPNN and wait for his reaction.

Step 2: If feasible then what
A campaign has to be built around it. It would require the support of various organizations/ institutions, leaders as well as the citizens.

Step 2.1: Planting any tree would not do. Plantation should be done in the way that it enhances the aesthetics of the city. Each area should have a mix which would create a separate identity for that area – the town planners can suggest the mix in consultation with the people of the locality. I remember the Gulmohar trees of my locality even now and those are good memories. Patna of future should be a city of many things – and one of those should be ‘the city of boulevards’.

Step 2.2: Creating Awareness and Engaging Citizens would be a tough task. This is the responsibility of media – I do not know how they would come together but all the newspapers/ regional channels and FM station(s) should come together to promote the cause. Patna has 72 wards – suppose every day, each newspaper carries out the current state of 2 wards. This would mean coverage for 36 days. The next 36 days then should be dedicated to illustrate how the wards would look after transformation. The images of transformation, obviously, would come from the City Planners undertaking the task. This would also be an incentive to them as they would get adequate publicity.

Plantation in huge numbers would require volunteers. Students should be engaged to spread the word – Institutions like Taru Mitra which are already working in this field should lead from front in this cause. If 10000 students come on board, you would have earned the support of 30000 at least (include the parents).

The leaders, especially the MPs and MLAs, from the area should come out and support the cause. It would also help them to connect with the common people once again. They should also ask their supporters to volunteer for the plantation. I would try to send this to important leaders of the state (if I get hold of their email IDs) and ask for their support. Probably this may give some a cause worth fighting for.

Create a buzz by promoting participation. Appeal the citizens to participate and play an important role in changing the face of the city. We would not like to handover a decaying city to our next generations. People want to come out and be a change agent – a few days back Telegraph carried a report on how residents near Mangles Tank joined hands to clean it. Popular local channels like Radio Mirchi Patna should influence the people to come out and register for the plantation event. Take a nominal charge for registration (the channel(s) can have a week of Road Show through a van promoting their brand), say Rs. 10 or 20, which would go on to fund for the cost of saplings (it may not be enough but anything is better than nothing).

Step 2.3: Each sapling would have a cost. Sapling (and too of specific species) would have to be arranged. Appropriate agencies and institutions would have to be reached out for help and coordination should be made to arrange the required number of saplings. Institutions like Rotary Club, Lions Club etc. having experience in running social campaigns should come together and take this responsibility. The cost of the samplings would have to be arranged – through registration campaign and donations from citizens and corporate alike. State government should also come forward to support the initiative.

Step 2.4: Local Administration/ Authorities would have to be involved from the beginning. Patna Municipal Corporation, DM’s Office and even the Police would have to be involved from the very beginning so that they are aligned with the execution of the campaign. Their support would also ensure that the actual plantation drive takes place without any hassles.

Step 2.5: With the involvement of so many stakeholders there would be chaos – We would need someone to manage and lead the campaign. One of the stakeholders should take the lead. It could be anyone (but with strong credibility and proven capability) – DM Office, a movement like TaruMitra, social organizations like Rotary Club or Lions Club, media organizations like HT Media, Telegraph, Radio Mirchi or even PMC (despite failing the City many a times).

Step 3: On Plantation Day

If we succeed in Step 1 and Step 2, we would indeed witness the momentous day when a historical city (once the greatest city of the world) will take its first step to reclaim the right to have a dignified and healthy life. The run up to this day (I think the entire campaign duration would be anything between 3-6 months) would require huge preparations:

Check 1: Having adequate numbers of saplings
Check 2: Ensuring that saplings are in right places
Check 3: Ensuring adequate numbers of volunteers to plant those saplings
Check 4: Ensuring maximum buzz so that the entire city is out on that memorable day to celebrate the event. One should promote this day akin to a Global Event of a sort.

How many trees would have to be planted on that day to get into the record books? I do not know – but I would like close to 1 Lakh tree planted on that day. What number do you have in mind?

Step 4: What after Plantation?

Plantation would be the easier part – keeping the trees safe (from animals and weather) would be much difficult. We would need caretakers – we would need trained gardeners. Considering the length and breadth of Patna (and the whopping number I have in mind… 1 Lakh!!), I think we would need at least 12 gardeners (6 wards each). With an average salary of 10000 per month, it would mean an expenditure of Rs. 1.2 Lakhs per month. Even if we take care of the trees for a year only, it would mean a cost of 14.4 Lakhs. Who should take care of this cost? I think PMC as it is responsible for taking care of the city.

The plants/ saplings would initially need barricades as safeguard from stray animals – this again is a cost (and a significant one). Who will pay for this one? I will leave that to you. After all I cannot answer each and every question.

Step 5: Life after Plantation

We would start breathing a little better air (and over time much better). Summer would still come to haunt us but our cool friends (trees) would be there to thwart most of its attacks. While we would be on road, trees would connive and display an amazing view to us – a view which we would be proud of; a view which we would carry in our hearts for long.

I am trying to sell you a dream - A dream of a better Patna. A Patna you would be proud of handing over to next generation - A Patna which you would build along with fellow citizens.  

I agree there are challenges but that could be sorted out by mutual discussions. The first step should be that the DM (or an editor of a newspaper or the convener of Taru Mitra or anyone with considerable influence) brings together the stakeholder and discuss the issue of plantation in the city. If this proposal holds any merit then discuss it else adopt a new blueprint but work towards restoring the greenery of the city.


P.S: I would also try to reach out to nonresident Patnaites to find out what they feel about the idea. As always, though I have laid down the thoughts with Patna in mind, this would be applicable to any city.

Sunday, June 01, 2014

हम सोचते हैं (भाग 9) – अच्छे दिन

सुबह घर से बाहर निकले तो हवा को बदला हुआ पाया – आज वह मलिन नहीं थी; न ही दम घोटने को लालायित। हमें आश्चर्य हुआ; कारण जानने की इच्छा भी हुई। उसे रोक कर पूछा – ओ बावली, क्या हो गया है तुझे? आज इतनी निर्मल, इतनी स्वच्छ कैसे है? आज मुझे परेशान करने का मन नही कर रहा?

इसपर वह मुस्कराई, इठलाई और कहा – अब से तो मैं ऐसी ही रहूँगी। मसीहा का आदेश है। अच्छे दिन आ गए हैं। इतना बोल वह चलते बनी पर हमें स्तब्ध कर दिया। अच्छे दिनों की इतने जल्दी आने की उम्मीद हमें कतई नही थी। संशय में तो हम थे पर होंठों पर एकाएक हँसी आ गई। ख्याल में आया कि चलो इस लहर में कुछ तो ठीक हुआ।

कॉलोनी में शायद ही कोई हमें पहचानता होगा (सुबह निकलकर देर रात लौटने वाले का सामाजिक अस्तित्व नगण्य होता है) पर हम अनेकों से वाकिफ है। बगलवाली आँटी जो हर रोज सड़क पर कूड़ा फेंकती थी, आज डस्टबीन का प्रयोग करते नजर आईं। हमसे ज्यादा आश्चर्यचकित तो कूड़ावाला था जिसे वे मंद मंद धमकी दे रहीं थी– अगर आज से इस पूरी कॉलोनी में एक जगह भी कचरा मिला तो तेरी खैर नही। मसीहा के आदेश के उल्लंघन में तुझे पिटवा दूँगी। कूड़ावाले ने जहाँ हामी में सर भर हिलाया वहीं बगल से गुजर रहे शर्माजी ने पान की पींक अंदर घुटक ली।

ऑटो स्टैंड तक पहुँचते पहुँचते हमें लगने लगा था कि अच्छे दिन वाकई आ गए हैं। एक ऑटो वाले से पूछा – 64?’

चलेंगे। 60 रूपए लगेंगे। हमें हर रोज 80 रूपए में जाने में जद्दोजहद करनी पड़ती थी – अचानक 60 सुनकर मन भ्रमित हो गया। हमारे मुख पर हर्ष और विस्मय मिश्रित कुछ अजीब से भाव आए होंगे क्योंकि ऑटो वाला बोला – आज से सिर्फ वाजिब भाड़ा लगेगा सर। अच्छे दिन आ गए हैं।

रोड पर ट्रैफिक देखकर मन प्रफुल्लित हो गया – सभी नियमों का पालन हो रहा था। न कोई बत्ती तोड़कर भाग रहा था और न ही कारों में काले शीशे चढ़े हुए थे। दोपहियों पर न सिर्फ चालक बल्कि सहयात्री भी हेलमेट डाले हुए मिले।

ऑफिस पहुँचा तो सभी नीचे एकत्रित थे। हमने पूछा – माजरा क्या है?
प्रण लेना है।
कैसा प्रण?
पता चलेगा।

चेयरमैन साहब ने प्रण दिलवाया। लंबी सूची थी –
हम अब अपना सारा काम समय से करेंगे।
हम समय से ऑफिस आएँगे और समय से ही निकल जाएँगे।
ग्राहक देवतुल्य है - उसकी सेवा हमारे लिए सर्वोपरि है। फलाँ फलाँ करते करते 10-15 प्रण हमसे दिलवा दिए गए। हरेक प्रण पर सिर्फ यही प्रश्न कौंधता था – यह तो सदैव ही होना चाहिए था; आज से ही क्यों? हिचकते हिचकते हमने मानव संसाधन प्रमुख से पूछ ही लिया – सर, ऐसा आज से ही क्यों?
गाल थपथपाते हुए उन्होने जवाब दिया – क्योंकि, मेरे बच्चे, आज से अच्छे दिनों की शुरुआत हुई है।

क्योंकि प्रण लिया था इसलिए शाम में हम समय से ही निकले। बहुत दिनों बाद अस्तचलगामी सूर्य के दर्शन हुए। मौसम सुहावना हो चला था – अरसे से चिलचिलाती गर्मी से परेशान धरती पर आज मौसम ने नजरें इनायत कर दी थी। मौसम का असर था या क्या पता नहीं पर मन हुआ कि आज शेयर्ड ऑटो से चलें। जो शेयर्ड ऑटो से रोजाना चलते हैं वे उस यात्रा की व्यथा जानते हैं पर अच्छे दिनों का संदेश शायद वहाँ भी पहुँच चुका था। ऑटो चालक लोगों को ठूँस नहीं रहें थे (इस कारण हमें ऑटो मिलने में कुछ समय अवश्य लगा); सभ्य भाषा का प्रयोग हो रहा था; महिलाओं को चालक एवं सहयात्री दोनों ही इज्जत दे रहे थे। लगा ही नही कि जैसे हम भारत के किसी शहर में हों।

रात में बाहर खाने का मन हुआ। मित्रों के साथ जब हम रेस्त्रां पहुँचे तो हंगामा मचा हुआ था। एक अंकल वहाँ के कर्मचारियों पर भड़के हुए थे – ऐसा नही चलेगा। अब तो बिल्कुल नहीं। मैं आपको पैसा दे रहा हूँ – भीख नहीं माँग रहा। आधे घंटे से उपर हो गए और अभी तक कुछ नहीं आया। यह बैरा बुलाने पर भी इधर आता नहीं है। ऐसा नही चलेगा। दिन के अंत में यह घटना पूरे दिन के अनुभव से अलग थी – लगा कि अच्छे दिनों के पूरी तरह से आने में समय लगेगा। तभी रेस्त्रां के संगीत में अचानक बदलाव हुआ और मसीहा की 3D होलोग्राफिक छवि सामने उभरी – उस छवि ने अंकल से हाथ जोड़ माफी मांगी और फिर रेस्त्रां के कर्मचारियों को जमकर फटकार लगाई; अच्छे दिनों का महत्व और मकसद समझाया और फिर गायब हो गई। सभी मौजूद लोगों के चेहरे पर आश्चर्य और खुशी के मिश्रित भाव थे। छवि के गायब होने के मिनटों में ही अंकल को उनके ऑर्डर के अनुसार भोजन परोस दिया गया। अंकल इतने गदगद दिख रहे थे कि हमें शक था कि वह कुछ कौर से ज्यादा नही खा पाएंगे।

लौटते वक्त मिथिलेश ने कहा – अगर यह आने वाले दिनों का परिचय है तो वे दिन अच्छे नही बहुत अच्छे होने वाले हैं।


P.S: हमें लगता है कि हमारी बहुत सारी कठिनाईयों/परेशानियों को हम खुद पालें हुएँ हैं। वे उसी दिन चलीं जाएँगी जिस दिन हम अपनी सोच बदल लें। जिस दिन वह सोच बदलनी शुरु होगी उसी दिन से अच्छे दिनों की शुरुआत हो जाएगी। रही बात प्रचारित अच्छे दिनों के आने की – तो उस समय व्यक्ति थोड़ा विचलित हो जाता है जब मौसम के बदलाव को भी लोग एक व्यक्ति/ सरकार से जोड़ने लगते हैं। 

Monday, March 17, 2014

हम सोचते हैं (भाग 8) – होली है!!

लीजिए भई, होली आ गई। जो हमें जानते हैं उन्हें पता है कि यह हमारा सबसे पसंदीदा त्योहार है। बचपन से ही इस त्योहार नें हमें अपने आकर्षणपाश में बाँध रखा है और अभी तक हमारा इससे मोहभंग नही हुआ है। हमारे ज्यादातर मुख्य त्योहार बुराई पर अच्छाई के जीत के प्रतीक हैं और होली कोई अपवाद नही है। जिन बंधुओ के लिए किवदंतियाँ/ मिथक (बहुतों के लिए इतिहास भी) कमजोर कड़ी है उनके लिए बता देते हैं कि होली का नाम होलिका नामक राक्षसी से आया है। जब हम होलिका दहन मनाते हैं तो हम सांकेतिक रूप में होलिका रूपी दुष्टता को जलाते हैं। होली का त्योहार भक्त प्रह्लाद की भक्ति का; उसे बचाने के लिए होलिका के नाश का एवं उसके पिता (और दुष्ट असुर राजा) हिरण्यकश्यप के अत्याचारी शासन के अंत का उत्सव है। पर यह उत्सव रंगों के साथ क्यों खेला जाता है? भगवान राम जब अयोध्या वापस आए तब भी उत्सव मना पर वह प्रकाशोत्सव था रंगोत्सव नही। तो फिर होली पर रंग क्यों?

एक धारणा है कि होली में रंग का समागम भगवान कृष्ण ने किया – राधा एवं अन्य गोपिकाओं के साथ उनका रंगरास होली के रूप में प्रसिद्ध हुआ। दरअसल कृष्ण अपने श्याम रंग से असंतुष्ट थे और इसी हताशा में उन्होनें राधा (एवं अन्य गोपिकाओं) के मुख को रंगा और यहीं से होली में रंग प्रथा की शुरुआत हुई। लोग इसे कृष्ण एवं राधा के प्यार का प्रतीक भी मानते हैं। कृष्ण भगवान थे; महिमामयी थे; अगमजानी थे। उनका रंगो के प्रयोग के पीछे प्रयोजन भाँपे तो होली के समारोह की सच्चाई निकलकर आती है – समानता। अपने रंग से परेशान भगवान ने सारे जग को रंग दिया ताकि कहीं भेद न रहे। कृष्ण रंगो के इस त्योहार से हमें आज भी प्रेम एवं समानता की सीख देते हैं।

यहाँ एक और बात गौर करनेवाली है – अलग अलग कथाएँ एक साथ मिलकर एक पर्व को उसका पूर्ण स्वरूप दे रहीं हैं। जहाँ नाम होलिका की कथा से आया वहीं रीति कृष्णयुग से। आज जब कट्टरता अपना सर फिर उठा रही है तो यह समझना बहुत जरूरी है कि संस्कृति एवं सभ्यता अचल नहीं है बल्कि परिवर्तनशील है जिसमें समय समय पर अनेक दृष्टिकोण समाहित होते हैं। यही कारण है कि जब कोई भारतीय सभ्यता से बीच के 1000 साल निकालने की वकालत करता है तो हम आहत होते हैं।

होली सिर्फ अच्छाई, प्रेम एवं समानता का त्योहार नही है – यह त्योहार है उल्लास का; यह त्योहार है जीवन के सभी रंगो का; यह त्योहार है एक नए ऋतु के आगमन का; यह त्योहार है उम्मीद का, एक नई शुरुआत का। जब हम होलिका दहन करते हैं तो हम अपने मन के विकार को मारने का प्रण लेते हैं, अपनी पुरानी गलतियों को सुधारने का संकल्प लेते हैं। जब हम दूसरों के घर जाकर उनसे मिलते हैं, उन्हें रंग लगाते हैं तो न सिर्फ संबंध प्रगाढ़ करते हैं बल्कि अगर गिले शिकवें हों तो उन्हे भी माफ कर आगे बढ़ते हैं।

होली एक और तरीके से नायाब है – आपने ध्यान दिया होगा कि इस पर्व का किसी अनुष्ठान से कोई लेना देना नही है। न किसी भगवान को पूजना है; न किसी पुजारी को बुलाना; न ही कोई विशेष विधि है कि इसी प्रकार यह त्योहार मनेगा। यह किसी भी प्रकार के आडंबर से मुक्त है। सच कहें तो होली का त्योहार आपको पूर्ण रूप से स्वतंत्र करता है।       

आप कह सकते हैं कि यहाँ लिखी बहुत सारी बातें अब सिर्फ कहने के लिए रह गईं हैं और उनका वास्तव में निर्वाह बहुत कम होता है। इसपर हमारा उत्तर सिर्फ यही है – आज और आगे की होली हमसे और हमारे आचरण से भी परिभाषित होगी। हम इसे जैसा चाहे रूप दे सकते हैं – हमें होली का इस लेख में प्रस्तुत रूप पसंद है और हम कोशिश करेंगे कि हम इसे इसी रूप में प्रचारित करें। आप क्या करेंगे?

P.S:  हमारे एक मित्र दक्षिण कोरिया में कार्यरत हैं और उन्होने अपने फेसबुक पर होली के चित्र लगाएँ हैं। देखकर अच्छा लगा कि उनके कुछ कोरियाई मित्र भी होली के जश्न में शामिल हुए। जहाँ हम अपने देश में ही वैमनस्व का भाव बढ़ा रहें हैं वही होली का त्योहार विदेशी भूमि पर (सांकेतिक तौर पर ही सही) सौहार्द बढ़ा रहा है।


~शानु 

Sunday, March 02, 2014

हम सोचते हैं (भाग 7) – इंद्रधनुष

हाल ही की बात है – हम अपने घनिष्ठ मित्र के विवाह समारोह में सम्मिलित होकर बेंगलुरु (हम अभी भी बैंगलोर कहना ही पसंद करते हैं) से दिल्ली वापस लौटे थे। मध्यरात्रि में जब हमारा विमान दिल्ली की हवाईपट्टी पर उतर गया तो हमने उन शक्स को फोन मिलाया जो हमें नियमित रूप से टैक्सी सेवा प्रदान करते हैं। पता चला कि ड्राइवर से बात न हो पाने के कारण हमारी टैक्सी आ नही पाएगी - अत: हमें अपना इंतजाम इस बार स्वयं ही करना पड़ेगा। यह कोई मुश्किल कार्य नही है और एयरपोर्ट में काफी टैक्सी सेवाएँ उपलब्ध हैं। फर्क सिर्फ इतना है कि वे हमारे जेब पर कुछ ज्यादा ही भारी पड़ती हैं। खैर मध्यरात्रि में और कोई चारा भी नही था सो हमने दिल्ली पुलिस द्वारा उपलब्ध करायी गई टैक्सी सेवा ले ली।

अधिकतर महानगरों में रिक्शे और टैक्सी चालकों की एक महत्वपूर्ण संख्या बिहारियों की होती है – दिल्ली उसमें कोई अपवाद नही है और शायद यहाँ ये प्रतिशत कुछ ज्यादा ही होगा कम नही। हमारे द्वारा किए गए टैक्सी का चालक भी बिहारी था।

कहाँ से हैं आप? हमने पूछा।
जी, बिहार से।
वह तो पता चल गया। बिहार में कहाँ से?
बाँका।
हम पटना से हैं।

हमारे साथ एक प्रॉबलम है – हमें बातें करने में बहुत मजा आता है (इसका असर हमारी लेखनी में भी झलकता है – कुछ लोगों के अनुसार (जोकि काफी हद तक सही है) हम बस लिखते चले जाते हैं)। यही कारण है कि हम जब भी किसी रिक्शा, ऑटो या फिर टैक्सी में बैठते हैं (और जब बैठकर सीधे सोने नही लगते) तो उनके चालकों से बाते करने लगते हैं। यकीन मानिए उन वार्तालापों से बहुत कुछ सीखने, समझने को मिलता है। चर्चा का विषय कुछ भी हो सकता है – मौसम, राजनीति, प्रगति, महत्वाकांक्षा इत्यादि। कभी कभी तो कुछ अपना जीवन तक खोल कर रख देते हैं। पर जब हम बिहारियों से बात करते हैं तो हम उनके क्षेत्र में हुए प्रगति-कार्य के बारे में विशेष रूप से चर्चा करते हैं। अत: हमने पूछ ही लिया – रोड-उड बन गया आपके साईड में?

रोड तो बेहतरीन हो गया है – एकदम मक्खन की तरह।
तो नीतीश काम कर रहें हैं वहाँ पर।

काम तो किए हैं – बिजली भी सुधर गया है। पर एक काम बहुत खराब किए हैं।

क्या?

नीची जाति को बहुत शोखी पर चढ़ा कर रखे हैं।

ऐसा क्या?

हाँ सब मुखिया-वुखिया तक बन रहा है – बताईए जरा।

इसमें क्या प्रॉब्लम है? हमने जानना चाहा।

आपको इसमें प्रॉब्लम नजर नही आ रहा?

नही। वे भी इंसान हैं और सबके जितना उनका भी हक है मुखिया बनने का।

अरे उनको शासन करने का अनुभव नही है न। सब कुछ चौपट कर देंगे।

हमने समझाने का प्रयत्न किया - अब मान लीजिए कि किसी को गाड़ी चलानी नही आती और आप इसमें माहिर हो। आपके अनुसार उस व्यक्ति को गाड़ी नही चलानी चाहिए क्योंकि शुरु में वह आप जितना अच्छा नही चला पाएगा। लेकिन हो सकता है कुछ समय बाद वह आपसे भी अच्छा चलाने लगे।

गाड़ी चलाने और शासन करने में काफी अंतर है।

अरे अभी तो बिहार सुधरना शुरु किया है। अभी रोड आएँ हैं, बिजली आ रही है, बच्चे स्कूल जाना शुरु कर रहें हैं और आप अब फिर से जात पात घुसाने पर जोर दिए हुए हैं। अगर प्रगति होती है तो सभी खुशहाल होंगे सिर्फ एक वर्ग नही। अभी तो आपको अच्छे अस्पताल माँगने चाहिए, रोजगार माँगना चाहिए। जात पात में क्या रखा है।

आप नही समझिएगा।

तो इस बार आप नीतीश को वोट नही देंगे?

पता नही। हम तो उधर जाएँगे जिधर सब जा रहे होंगे।

यह प्रकरण यह बताता है कि बिहारियों के एक वर्ग में असंतोष हैं कि कोई और वर्ग भी आगे बढ़ रहा है। और यह असंतोष नया नही है बस अब कुछ ज्यादा प्रखर हुआ है। अभी करीब एक साल पहले एक रिक्शेवाले ने भी इसी प्रकार की भावनाएँ व्यक्त की थी। वे जनाब दरभंगा के थे। कहने लगे – अब बताईए सर। हम (फलाँ फलाँ जात का) होकर रिक्शा चला रहें हैं और वहाँ नीच लोग अफसर बन रहा है। इ सब काम तो उनलोगो के लिए बना है न, हमारे लिए नही। समय ही उल्टा आ गया है।

आप कह सकते हैं कि ये लोग ज्यादा पढ़े लिखे नही होंगे और शायद इसीलिए ऐसी मानसिकता होगी। पर पढ़े लिखे भी ज्यादा पीछे नही है – एक परिचित ने सीधे न बोलते हुए भी कह ही दिया। 
2004 से पहले का बिहार आज के बिहार से ज्यादा अच्छा था।
हमने पूछा कैसे। भ्रष्टाचार कम था और सामाजिक संतुलन ज्यादा था।

हमने रोड, बिजली, स्कूल इत्यादि में हुए परिवर्तन पर ध्यान आकृष्ट कराया तो बोले – सामाजिक संतुलन ज्यादा जरूरी है। अब यह बताओ कि 500 एकड़ में आई आई टी बनाकर यह क्या कर लेंगे?’ इस कथन के बाद हमारा जिरह करने तक का मन  न हुआ।

जात पात को हम ढ़ंग से कभी समझ ही नही पाए हैं। यह किसी को इतना अंधा कैसे कर देता है कि लोग अपने विकास की तिलांजलि देने को तैयार हो जाते हैं ताकि दूसरों का विकास न हो सके। यह कैसे लोगों को बाध्य कर सकता है कि किससे मिलना है और किससे नही; किससे संबंध बनाने हैं और किससे नही; किसे वोट देना है और किसे नही।

शीर्षक स्वदेस फिल्म के गाने से प्रेरित है:-

समझो सबसे पहले तो,
रंग होते अकेले तो
इंद्रधनुष बनता ही नही।
एक न हम हो पाए तो,
अन्याय से लड़ने को
होगी कोई जनता ही नही।

हम कब समझेंगे कि सबकी प्रगति में ही हमारी भलाई है। हम दूसरों को वंचित रखकर एक सीमित क्षेत्र में ही अपना वर्चस्व स्थापित कर सकते हैं। सच्चाई यह रहेगी कि हम बस कुएँ के मेंढक रह जाएँगे। लेकिन अगर सब मिलकर आगे बढ़ते हैं तो शायद उस सीमित क्षेत्र में हमारा वर्चस्व न हो पर फिर भी हम पहले से कहीं बेहतर होंगे।    

P.S: ऐसा नही है कि बिहार में बदलाव नही हुआ है – हमारे दो निकटतम मित्रों का अंतरजातीय विवाह हुआ है। और ऐसे अनेक उदाहरण मिल जाएँगे आपको। पर शायद यह बदलाव जिस तेजी से होना चाहिए वैसा न हो पा रहा है।

सारे ओपिनियन पोल बता रहें हैं कि 2014 के लोकसभा चुनाव में नीतीश कुमार के नेतृत्व वाली जद (यू) की खटिया खड़ी होगी – अगर ऐसा होता है तो इसके बहुत कारण होंगे और एक कारण यह भी होगा कि हम जात को लेकर अपनी मानसिकता में आवश्यकतानुसार बदलाव लाने में अक्षम रहे। 
  

~शानु